Life Styleटोटके-नुस्ख़े

इस सांप का इस्तेमाल पुरुषों की शारीरिक समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है!

दिल्ली के रोहिणी सेक्टर 16 में रहने वाले एक शख्स के पास पुलिस ने एक दुर्लभ प्रजाति के साप का सौदा करने पर गिरफ्तार किया है. आरोपी के पास एक सैंड बोआ साप बरामद हुआ. इंटरनैशनल मार्केट में इस साप की कीमत करीब 3 करोड़ है. ये साफ़ कई बिमारियों को ठीक करने के काम आता है. आज हम आपको इस साप के बारे में कुछ ख़ास बातें बता रहे हैं.

सैंड बोआ नाम क्यों? ये सांप बालू के नीचे रहता है इसलिये इसका नाम सैंड बोआ पड़ा. जैसे अनाकोंडा की आंखे सर पर होती हैं वैसे ही इस साप की भी होती है. बालू की नीचे छुपे रहकर ये साप अपने शिकार पर हमला करता है. इस साप को पालतू बनाकर भी पाला जाता है.

प्रजनन का माध्यम


सैंड बोआ में प्रजनन का माध्यम मादा द्वारा बच्चे को जन्म देने से होता है और पैदा होने के समय एक साप एक सांप की लंबाई आठ से दस ईंच होती है. पतझड़ और ठंड के मौसम में इनका प्रजनन होता है और बच्चे का जन्म बसंत के मौसम से लेकर गर्मी के मौसम तक में होता है। बेबी सैंड बोआ छोटे चूहों को अपना शिकार बनाता है.

इस सांप की एक प्रजाति उत्तरी अमेरिका में मुख्य रूप से प्रशांत महासागर के तट पर पाई जाती है। एक प्रजाति यूरोपी, उत्तरी अफ्रीका और एशिया के कुछ हिस्से में पाई जाती है. एक प्रजाति मुख्य रूप से अफ्रीका और भारत में पाई जाती है।

कई बीमारियों के इलाज में असरदार

सैंड बोआ सांप का इस्तेमाल कई बिमारियों के इलाज़ के काम आता है. ऐसा कहा जाता है पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन यानी लिंग में उत्तेजना पैदा न होने की समस्या को दूर करने में भी यह काफी कारगर है. इसके अलावा कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी के इलाज़ के भी काम आता है. जोड़ो के दर्द की दावा भी बनाई जाती है. इसके स्किन का इस्तेमाल कॉस्मेटिक्स और पर्स, हैंडबैग एवं जैकेट बनाने में भी होता है।

इस सांप का इस्तेमाल सेक्स पावर बढ़ाने, नशीली चीजों, महंगे परफ्यूम बनाने और कैंसर के इलाज में भी विदेशों में किया जाता है।

Tags
Show More

Related Articles

Close