धर्म-अध्यात्म

मृत्यु से 9 महीने पहले ही मिलने लगते है मौत के संकेत, ऐसे पहचाने आने वाली मृत्यु की आहट

ये तो सब जानते है कि मृत्यु जीवन का वो कड़वा सच है, जिसे चाह कर भी कोई टाल नहीं सकता. जी हां जो व्यक्ति इस दुनिया में जन्म लेता है, उसे एक न एक दिन इस दुनिया से जाना ही पड़ता है. हालांकि ये बात अलग है कि कुछ लोग अपनी पूरी जिंदगी जीने के बाद इस दुनिया को अलविदा कह कर जाते है और कुछ लोग समय से पहले ही इस दुनिया से रुक्सत हो जाते है. वही अगर हम मृत्यु की बात करे तो मौत का कोई समय नहीं होता. जी हां यह कही भी कभी भी और किसी भी व्यक्ति को आ सकती है.

हालांकि जब व्यक्ति की मौत का समय नजदीक आता है, तब उसे कुछ खास संकेत मिलने लगते है. जिनके बारे में आज हम आपको बताएंगे. अब यूँ तो मौत का नाम सुन कर ही किसी भी व्यक्ति की रूह कांप जाती है, लेकिन फिर भी हर किसी को एक न एक दिन यह जीवन तो त्यागना ही पड़ता है. तो चलिए अब आपको उन संकेतो के बारे में विस्तार से बताते है जो मृत्यु से पहले व्यक्ति को मिलते है.

१. गौरतलब है कि अगर आईने में खुद का चेहरा देखने के बावजूद भी खुद का चेहरा न दिखाई दे या किसी और की आकृति दिखाई दे, तो समझ लीजिये कि आपका अंतिम समय पास आ चुका है.

२. गौरतलब है कि किसी भी व्यक्ति के लिए उसकी परछाई बेहद महत्वपूर्ण होती है, क्यूकि व्यक्ति की परछाई कभी उसका साथ नहीं छोड़ती. मगर जब आपको अपनी परछाई दिखनी बंद हो जाएँ तो समझ लीजिये कि आपका अंतिम समय नजदीक आ चुका है.

yamraj
SOURCE:- Google

३. इसके इलावा जब आपको अपने शरीर से ऐसी गंध आने लगे, जो आपने पहले कभी महसूस न की हो और यह गंध काफी अजीब सी हो, तो समझ लीजिये कि आपकी मृत्यु का समय पास आ चुका है. जी हां बता दे कि शरीर से इस तरह की गंध का महसूस होना अच्छा संकेत नहीं है. गौरतलब है कि यह अजीब सी गंध मृत्यु गंध के नाम से जानी जाती है.

४. बता दे कि जब किसी व्यक्ति की मृत्यु का समय नजदीक आता है, तब उसे हर समय यही लगता है कि कोई न कोई व्यक्ति उसके साथ जरूर है. जी हां ऐसी स्थिति में व्यक्ति को लगता है कि उसके पूर्वज उसके साथ ही है.

५. बता दे कि जब किसी की मृत्यु का समय पास आता है, तब उसे हर चीज दो भागो में टूटती हुई नजर आती है. यहाँ तक कि उसे आकाश में पिंड भी दो भागो में टूटते हुए नजर आते है. जब कि वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता, बल्कि यह व्यक्ति का भ्रम होता है या यूँ कहे कि यह मृत्य का एक बड़ा संकेत है.

६. गौरतलब है कि जब हम लोम विलोम करते है, तो इस दौरान हमारी नाक का एक हिस्सा काफी तेज चलता है और दूसरा हिस्सा थोड़ा धीमा चलता है. यानि अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो इस दौरान नाक के दोनों हिस्से बराबर नहीं चलते. मगर यदि यह दोनों हिस्से बराबर मात्रा में चलने लगे तो समझ लीजिये कि आपका मृत्यु का समय नजदीक आ चुका है.

Source- Google

बरहलाल हम तो यही दुआ करते है कि आपको कभी ऐसे संकेत न दिखाई दे.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close