आज भी जल रही है वो हवन कुण्ड की वो अग्नि, जिसे साक्षी मानकर की थी शिव-पार्वती ने की शादी

agnikund

शिवरात्रि के शुभ दिन ही भगवान शिव का विवाह माता पार्वती से हुआ था। उत्तराखंड में रुद्रप्रयाग स्थित त्रियुगी नारायण मंदिर में ही अग्नि को साक्षी मानकर शिव जी ने माता पार्वती से विवाह किया था और उस पवित्र अग्नि कुंड में आज भी अग्नि प्रज्वलित हे।

agnikund2
source:google

इसे आज भी घी और इंधन से प्रज्वलित रखा गया हे। श्रद्धालु इस पवित्र भस्म को अत्यंत ही शुभ एवं लाभकारी मानते हे और अग्नि की राख को अपने गृह में ले आते हे और ऐसा मानते हे की उस राख को अपने घर में रखने से वैवाहिक जीवन में आने वाली परेशानियाँ दूर होती हे और सफलतम भविष्य की कामना करते हुए मस्तक पर लगाते हे।

agnikund3
source:google

त्रियुगी नारायण मंदिर में प्रसाद के रूप में भक्त लकड़ियाँ भी चडाते हे । रुद्रप्रयाग जिले में भगवानविष्णु और देवी लक्ष्मी का एक मंदिर हे ,जिसे शिव पार्वती का विवाह स्थल मन जाता हे। इस मंदिर के प्रांगन में आज भी कई एसी चीजे हे,जिनका सम्बन्ध भगवान शिव और माता पार्वती के विवाह से मान जाता हे। शिव पार्वती के विवाह के समय विष्णुजी ने पार्वतीजी के भाई की भूमिका निभाई थी एवं सभी रस्मो को रीति-रिवाज के साथ पूरा किया।

agnikund4
source:google

त्रियुगी नारायण में गौरीकुंड भी दर्शनीय स्थल हे। गौरी कुंड वह जगह हे जहा माता पार्वती ने साधना की थी। पोराणिक ग्रंथो के अनुसार शिव जी ने गुप्त काशी में माता पार्वती के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा था।इसके बाद शिव पार्वती का विवाह युगीनारायण में मन्दाकिनी सोन और गंगा नदी के मिलन स्थल पर हुआ। इस मंदिर की स्थापना आदिगुरू शंकराचार्य ने की थी। यहां शिवजी और पार्वती के साथ-साथ भगवान विष्णु को भी पूजा जाता हे।