अद्भुत संयोग, छह जुलाई से शुरु हो रहे सावन का पहला और अंतिम दिन सोमवार

इस बार सावन माह अद्भुत संयोग के साथ छह जुलाई को प्रारम्भ हो रहा है। भगवान शंकर के प्रिय इस महीने की शुरुआत और समापन सोमवार से होगी। पूरे माह कुल पांच सोमवार पड़ेंगे और अंतिम दिन तीन अगस्त को रक्षाबंधन का त्योहार है। ज्योतिषाचार्य डॉ. ओमप्रकाशाचार्य का कहना है कि पूरे सावन महीने में भगवान शंकर की भक्तों पर विशेष कृपा बरसेगी। उन्होंने बताया कि इस माह में सोमवार का विशेष महत्व रहता है। ऐसे में इस बार सावन के पहले और अंतिम दिन सोमवार का पड़ना विशेष संयोग माना जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस सावन में पांच सोमवार पड़ रहे हैं, जिनमें तीन सोमवार कृष्ण पक्ष और दो शुक्ल पक्ष में होंगे।

इस बार का सावन मास 29 दिन का ही होगा, क्योंकि शुक्लपक्ष में नवमी तिथि का क्षय है। उन्होंने बताया कि इस महीने की सभी तिथियां महत्वपूर्ण व व्रत वाली हैं। इस माह पांच सोमवार समेत करीब 26 शुभ योग बन रहे हैं। इनमें 11 सर्वार्थसिद्धि योग, तीन अमृतसिद्धि और 12 रवियोग का संयोग है। उन्होंने बताया कि इन शुभ योग में भोले बाबा की पूजा का विशेष माहात्म्य है। ज्योतिषाचार्य ने बताया कि वैदिक और ज्योतिष ग्रंथों के अनुसार जिस माह पांच सोमवार पड़ते हैं, वह महीना बड़ा ही शुभ होता है। प्रजा खुश रहती है। उसकी हर आकांक्षा पूरी होती है। सावन महीने के हर सोमवार को व्रत और भगवान शिव की पूजा करने से लोगों की परेशानियां खत्म हो जाती हैं और बीमारियों से भी छुटकारा मिल जाता है।

कोरोना के चलते कांवड़ यात्रा रहेगी प्रतिबंधित


इस बार के सावन में भले ही अद्भुत संयोग हों, लेकिन कोरोना के संक्रमण के चलते भक्तों को भगवान की पूजा दूर से ही करनी पड़ेगी। कांवड़ यात्राएं भी प्रतिबंधित रहेंगी। सावन के प्रत्येक सोमवार को होने वाले शिव के जलाभिषेक के अनुष्ठान भी शिवालयों में नहीं हो पाएंगे। ऐसे में श्रद्धालु लोग अपने घरों में ही जलाभिषेक और रुद्राभिषेक जैसे अनुष्ठानों के आयोजन की तैयारी में हैं। इसके लिए लोग कर्मकांडी विद्वानों व पंडितों से अभी से संम्पर्क करना शुरु कर दिये हैं। लखनऊ, वाराणसी, प्रयागराज, अयोध्या और मथुरा के तमाम पंडितों के पास सावन के अनुष्ठानों की अग्रिम बुकिंग शुरु हो गई है।

सावन महीने के व्रत व त्योहार

1-पांच सोमवार – 6, 13, 20, 27 जुलाई व तीन अगस्त को

2-मौनी पंचमी – 10 जुलाई को

3-मंगला गौरी व्रत – 14 जुलाई को

4-एकादशी व्रत – 16 जुलाई को

5-प्रदोष व्रत – 18 जुलाई को

6-हरियाली अमावस्या – 20 जुलाई को

7-हरियाली तीज – 23 जुलाई को

8-नाग पंचमी त्योहार – 25 जुलाई को

9-रक्षाबंधन पर्व -तीन अगस्त को