धर्म-अध्यात्म

घर की इस दिशा में भूलकर भी ना रखे माता रानी की प्रतिमा, होता हैं बड़ा अपशगुन

जैसा कि आप सभी जानते हैं नवरात्रि का पावन पर्व शुरू हो चूका हैं. ऐसे में पुरे देश में इस त्यौहार की धूम हैं. हर कोई इन दिनों माता रानी को प्रसन्न करने में लगा हुआ हैं. ऐसा कहा जाता हैं कि इन दिनों जो भी माता रानी को खुश कर देता हैं उसे बहुत लाभ होता हैं. नवरात्रि में माता की पूजा का बहुत महत्त्व होता हैं. इन दिनों आपको सुबह और शाम नियमित रूप से माता की आरती करना चाहिए. आपके घर में माता की जितनी भी तस्वीर हैं सब में फूल माला पहनना चाहिए. कुछ लोग नवरात्रि में माता कि मूर्ति की स्थापना भी करते हैं. वहीँ कुछ पहले से घर में रखी तस्वीर या प्रतिमा को पुनः स्थापित कर उसी की पूजा करते हैं.

ऐसे में आप माता रानी की तस्वीर या प्रतिमा को घर के जिस स्थान पर रखते हैं उसका भी बड़ा महत्त्व होता हैं. वास्तु की माने तो घर में गलत स्थान पर रखी भगवान की तस्वीर एक बड़ा अपशगुन हो सकता हैं. इसलिए भगवान को सही दिशा में रखकर उनकी आराधना करना बहुत जरूरी हो जाता हैं. यही वजह हैं कि हम आज आपको नवरात्रि के दिनों में माता रानी की प्रतिमा को सही दिशा में रखना बता रहे हैं.

इस दिशा में माता की प्रतिमा रखना होता हैं अशुभ

वास्तु के अनुसार घर की दक्षिण दिशा में आपको भूलकर भी माता रानी की तस्वीर नहीं रखना चाहिए. ऐसा कहा जाता हैं कि इस दिशा में घर की सबसे ज्यादा नकारात्मक उर्जा रहती हैं. ऐसे में जब आप माता रानी को इस दिशा में स्थापित करते हैं तो आपके द्वारा की गई पूजा पाठ का फल नहीं मिलता हैं. माता रानी को सिर्फ पॉजिटिव एनर्जी ही पसंद होती हैं. नेगेटिव वातावरण में वो अपने भक्तों की कभी नहीं सुनती हैं. यही वजह हैं कि हमें दक्षिण दिशा में किसी भी भगवान की तस्वीर रखें से बचना चाहिए.

इस दिशा में माता की प्रतिमा रखना होता हैं शुभ

चलिए अब जानते हैं कि घर की किस दिशा में माता रानी को स्थापित करने से सबसे अधिक लाभ मिलता हैं. दरअसल वास्तु के अनुसार घर की पूर्व और उत्तर दिशा सबसे अधिक शुभ होती हैं. इन दोनों ही दिशाओं में सबसे अधिक सकारात्मक उर्जा पाई जाती हैं. जिसकी वजह से इस दिशा में माता को रखकर पूजा करना शुभ हो जाता हैं. माता रानी को सकारात्मक माहोल ज्यादा पसंद होता हैं. चुकी ये दिशा पॉजिटिव एनर्जी से भरी होती हैं इसलिए इसके आसपास का माहोल हमेशा सकारात्मक ही रहता हैं. इतना ही नहीं इस दिशा में पूजा करने वाले व्यक्ति का मन भी पॉजिटिव हो जाता हैं. ऐसे में माता उसकी और भी जल्दी सुनती हैं.

वैसे आपको बता दे कि घर की पश्चिम दिशा में माता रानी की प्रतिमा या तस्वीर रखने के ना तो कोई फायदे हैं और ना ही कोई नुकसान हैं. इसलिए आप इस दिशा को सबसे लास्ट आप्शन की तरह देखे.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close