धर्म-अध्यात्म

इन नियमों का पालन जरूर करें घर के मंदिर में पूजा करने से पहले, मिलेगा विशेष लाभ

हिन्दू धर्म में शायद ही कोई ऐसा परिवार होगा जिनके घर में मंदिर ना हो. हिन्दुओं में सभी जाती के लोगों में उनका एक विशेष ईस्ट देव होता है जिनकी पूजा अर्चना वो अपने घर में बनाये मंदिर में करते हैं या यूँ कहें की इस धर्म को मानने वाले सभी लोगों का एक कुल देवता होता है जिनकी स्थपना घर के मंदिर में की जाती है. आप भी रोज अपने घर के मंदिर में स्थापित देवी देवताओं की पूजा जरूर करते होंगें, लेकिन आज हम आपको घर के मंदिर में पूजा करने से पहले पालन किये जाने वाले कुछ नियमों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका यदि ठीक ढंग से पूजा से पहले पालन किया जाए तो इससे मनचाहा लाभ मिलता है. कई बार लोग ऐसा सोचते हैं की जब वो अच्छे तरीके से पूजा पाठ कर रहे हैं तो फिर उन्हें इसका कोई लाभ क्यूँ मिलता, असल में बहुत से लोग पूजा से पहले कुछ ख़ास नियमों का पालन नहीं करते हैं जिनका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ता है. आईये आपको बताते हैं की घर के मंदिर में पूजा करने से पहले किन नियमों का पालन किया जाना बेहद आवश्यक है.

सबसे पहले आपको बता दें की यदि घर के मंदिर में आप पूजा करने के लिए बैठते हैं तो कभी भी अपने पैरों से पूजा पे बैठने वाले आसन को इधर उधर ना करें. पूजन के दौरान इस्तेमाल में लाया जाने वाला आसन भी काफी पवित्र माना जाता है इसलिए इसे कभी भी पैर नहीं लगना चाहिए. इसके आलवा आपको बता दें की अपने घर के मंदिर में पूजा करने के दौरान अन्य देवी देवताओं के साथ साथ अपने इष्ट देव और कुल देवता की पूजा जरूर करें क्यूंकि आपके ऊपर उनकी कृपा होना भी बेहद आवश्यक है. बता दें की घर के मंदिर में जब भी कोई ख़ास पूजा करवाएं तो साथ ही उच्च पंडितों की मदद से इष्टदेव सहित, ग्रह दोष, पंच लोकपाल और षोडश पूजा जरूर करवाएं क्यूंकि इसके बिना किसी भी ख़ास पूजा का कराया जाना व्यर्थ माना जाता है.

बता दें की घर में बे मंदिर के आसपास कोई भी अवित्र वास्तु और जूते चप्पल ना ले जाएँ. गौरतलब है की आप ईश्वर के विशेष आशीर्वाद के पात्र तभी बनते हैं जब आप घर के मंदिर की पवित्रता को बनाएं रखते हैं और वहां साफ़ सफाई रखते हैं. घर के मंदिर में पूजा करने के दौरान इस बात का भी ख़ास ख्याल रखने की जरुरत है की आप कभी भी भूले से भी पूजा के दौरान अपने पास चमड़े की बनी कोई भी चीज ना रखें जैसे की चमड़े की बेल्ट, पर्स आदि. इसके आलवा यदि आप मंदिर में दिए जलाते हैं तो सबसे पहले तो इसे भगवान के समक्ष ही रखें और साथ ही इस बात का भी ख़ास ख्याल रखें की यदि आप घी के दिए जला रहे हैं तो उसमे सफ़ेद रुई का इस्तेमाल करें और यदि आप तेल के दिए जला रहे हैं तो लाल रंग की बाती का इस्तेमाल करें. इस प्रकार से यदि घर के मंदिर में पूजा करने से पहले यदि आप इन कुछ बातों का विशेष ध्यान रखते हैं तो निश्चित रूप से आपको ईश्वर का विशेष आशीर्वाद मिलता है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close