धर्म-अध्यात्म

बिना स्नान करें ये काम, खुल जायेंगे किस्मत के ताले

धर्मग्रंथों के अनुसार हम अपने दिनचर्या में कई सारे नियम और शुभ-अशुभ और उचित-अनुचित बाते बताई गई हैं जिनका अगर सही तरह से पालन किया जाए तो हम हर तरह की सांसरिक समस्याओं दूर रह सकते है। इसके अलावा धर्म ग्रंथो में बताए गए नियमों का यथा उचित पालन करें तो हमारी किस्मत को भी पूरा साथ मिलता है, और जीवन में खुशहाली बनी रहती है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ शुभ कार्यों के बारे में बताने वाले हैं जिसे कोई भी कर सकता है चाहे वो स्त्री हो या पुरूष।  वह प्रतिदिन सुबह इस अनुसरण को  करता है तो उसकी सोई हुई किस्मत जाग जायेंगी..

kundali-24-4-18
source:google

दरअसल, मनुष्य की कुंडली में नौ ग्रहों में किसी से संबंधित कोई दोष हो तो,  उसे भाग्य का उचित साथ नहीं मिल पाता है, जिससे उसे हर कार्य में असफलता हाथ लगती है और साथ ही परिवार में भी अशांति बनी रहती है। ऐसे में कुंडली के इस दोष को दूर करने के लिए शास्त्रों में बहुत सारे उपाय बताए गए हैं। लेकिन इनमें से अधिकांश उपाय और पूजा-पाठ नहाने के बाद ही करना का बताया गया है,  वहीं कुछ ऐसे भी शुभ कार्य हैं जो आप बिना स्नान किए कर सकते हैं। चलिए जानते हैं ऐसे कार्य जिसे व्यक्ति को जागते ही करना होगा..

सुबह जागते ही इस मंत्र का करें जाप

प्रतिदिन सुबह जागते ही स्त्री हो या पुरुष रोज,  इस इस मंत्र का जाप जरूर करना चाहिए । मंत्र इस प्रकार है..

ब्रह्मा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च।

गुरुश्च शुक्रः शनि राहुकेतवः कुर्वन्तु सर्वे ममसुप्रभातम्॥

मंत्र का अर्थ.. ब्रह्मा, विष्णु, शिव, सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु ये सभी देव मेरे प्रात को शुभ बनाएं। इस मंत्र के विषय में मान्यता है कि इसका जाप करने से सभी देवी-देवता और नौ ग्रहो प्रसन्न होते है और उनकी कृपा मिलती है। ऐसे में व्यक्ति को सभी तरह के दुर्भाग्य से मुक्ति मिलती है।

Palm-15-1-18-e1524567010754
source:google

सुबह उठते ही सबसे पहले आपको अपनी हथेली देखनी चाहिए, क्योंकि ऐसी धार्मिक मान्यता है कि हमारे हाथ के अग्रभाग में देवी लक्ष्मी, मध्य में देवी सरस्वती और हाथ के मूलभाग में भगवान विष्णु का वास है।इसलिए सुबह जागते ही अपनी दोनों हथेलियों को देखकर मंत्र का पाठ बेहद शुभ होता है।

कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती।

करमूले तू गोविंद: प्रभाते करदर्शनम्॥

feet-on-the-floor
source:google

प्रात: उठते ही धरती मां पर अपने पैरों को रखने से पहले धरती को प्रणाम या माथे से लगाना चाहिए, क्योंकि  धरती मां है उनके सीने पर हम चलते-फिरते हैं, दिनचर्या के काम करते हैं  इसलिए सुबह उठकर सबसे पहले धरती मां को प्रणाम कर उनसे क्षमा मांगनी चाहिए और फिर अपना कदम बढ़ाना चाहिए। यह करने से घर में हमेशा खुशहाली रहती है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close