केजरीवाल ले रहे थे CM पद की शपथ, तो दूसरी ओर उनके खिलाफ दर्ज़ हुआ मुकदमा!

आज आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली. शपथ ग्रहण के बाद रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल ने जनसभा को संबोधित करते हुए मुफ्त योजनाओं पर विपक्ष की टिप्पणियों पर भी जवाब दिया है. आपको बता दें जहाँ एकतरफ अरविन्द केजरीवाल शपथ ले रहे थे. वोहीं दूसरी तरफ उनके खिलाफ दर्ज़ हुआ मुकदमा. आइये आपको बताते हैं पूरी बात.

शनिवार को स्पेशल जज एमपी-एमएलए पीके जयंत ने केजरीवाल को अदालत में व्यक्तिगत रूप से तलब करने का आदेश दिया है। अदालत ने केजरीवाल के खिलाफ चार्ज तय करने के लिए 26 फरवरी की तिथि नियत की है। मामला अमेठी जिले के मुसाफिरखाना कोतवाली से जुड़ा है. उन्होंने अपने भाषण में कांग्रेस व भाजपा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उड़नदस्ता मजिस्ट्रेट/मुसाफिरखाना तहसील के तत्कालीन तहसीलदार प्रेमचंद की तहरीर पर अरविंद केजरीवाल के खिलाफ चार मई 2014 को मुसाफिरखाना कोतवाली में लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था.

नौ जुलाई 2014 को मामले की विवेचना पूरी कर विवेचक/एसआई शिव प्रसाद शुक्ल ने केजरीवाल के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी। चार्जशीट पर संज्ञान लेने के बाद केजरीवाल कोर्ट ने तलब किया था। इसको केजरीवाल ने पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट में और बाद में सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. 27 अक्तूबर 2016 को सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल को ट्रायल कोर्ट में व्यक्तिगत हाजिरी से अग्रिम आदेश तक छूट प्रदान दे दी थी। इसी मामले में शनिवार को स्पेशल जज एमपी-एमएलए पीके जयंत ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 26 फरवरी के लिए व्यक्तिगत रूप से तलब करने का आदेश दिया है। उनके खिलाफ कोर्ट चार्ज बनाएगी।