कर्नाटक के नतीजे तय करेंगे 2019 की तस्वीर, चलेगी मोदी की लहर या आएगी राहुल गांधी की आंधी l

राष्ट्रीय राजनीति के हिसाब से देखें तो बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए यह चुनाव अहम साबित होगा. उपचुनाव में लगातार का हार का सामना कर रही बीजेपी की पूरी कोशिश है कि कर्नाटक में हर हाल में कमल जरूर खिले. वहीं कांग्रेस राज्य में सत्ता में बचाकर पूरे देश में साबित करना चाहती है कि वही देश में अच्छी और प्रभावी सरकार दे सकती है.

Source- Google

पूरे देश की निगाहें आज होने वाली कर्नाटक विधानसभा चुनाव की मतगणना पर है। दोपहर होते-होते साफ हो जाएगा कि सूबे में कांग्रेस वापसी करेगी या भाजपा नई सरकार बनाएगी। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे आज आने वाले हैं. चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक मतगणना 8 बजे शुरू हो गई है. दक्षिण भारत से कुल 130 सीटें लोकसभा के लिये आती हैं.

Source- Google

इन सीटों में कर्नाटक में 28, आंध्र प्रदेश में 25, केरल में 21, तमिलनाडु में 39, तेलंगाना में 17 आती हैं. सीटों के लिहाज से तमिलनाडु सबसे बड़ा राज्य है और इसके बाद कर्नाटक आता है. इन राज्यों में आंध्र प्रदेश में बीजेपी इस बार अकेले दम पर चुनाव लड़ने का दावा ठोक रही है

कर्नाटक में सत्ता बरकरार रखने पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का सियासी कद बढ़ेगा। साथ ही पार्टी को लोकसभा चुनाव से पहले होने वाले मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए नई ऊर्जा मिलेगी। साथ ही कांग्रेस को नया मोर्चा बनाने के अभियान में भी मजबूती मिलेगी।
बीजेपी कई सालों से इन सीटों पर ज्यादा से ज्यादा कब्जा करने के लिये कोशिश कर रही है. क्योंकि उत्तर भारत के ज्यादातर राज्यों में अब बीजेपी की ही सरकार है और उसे वहां पर सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ सकता है. इसलिये उसकी कोशिश है कि इस नुकसान की भरपाई इन 130 सीटों से की जाये.कर्नाटक में जीत हासिल होने पर भाजपा को बड़ा सियासी लाभ मिलेगा। गठबंधन की खटपट पर पूर्णविराम लगने के साथ ही मोदी-शाह की अजेय छवि पर भी मुहर लगेगी।

Source- Google