बड़ी खबर: राहुल की रैली में भीड़ से हैरान हुए मोदी, जानकर आपके भी उड़ जाएंगे होश…

कांग्रेस शासित राज्य कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी की चहलकदी देश ऐसा प्रतीत होता है जैसे कांग्रेस पार्टी इस विधानसभा चुनाव के साथ-साथ ने 2019 लोकसभा चुनाव के लिए भी बिगुल फूंक दिया है। लेकिन कांग्रेस पार्टी का जनआधार देख ऐसा लगता हैस जैसे कांग्रेस को इस बार भी 2014 के चुनाव के तरह की मुंह की खानी पड़ेगी!

Source: Google

दरअसल पिछले दिनों कांग्रेस पार्टी में राजधानी दिल्ली में ‘जन आक्रोश रैली’ के नाम से विशाल जनसभा का आयोजन किया। इस दौरान कांग्रेस के मैजूदा और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी के साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत अन्य कई वरिष्ठ पार्टी नेता शामिल हुए।

Source: Google

रैली के दौरान कांग्रेसी नेताओं ने जमकर दहाड़ मारे! मीडिया रिपोर्टस के अनुसार रैली से पहसे कांग्रेस पार्टी की ओर से बताया गया कि इस सभा में दो लाख से भी अधिक कांग्रेसी कार्यकर्ता और आम जन शामिल होने वाले हैं, लेकिन रैली के दौरान जो हुआ उसने कांग्रेस पार्टी की लोकप्रियता पर एक बार फिर से गंभीर सवाल खड़े किए हैं!

Source: Google

दरअसल एक ओर कांग्रेस पार्टी रैली में दो लाख से भी अधिक लोगों के शामिल होने का दावा कर रही थी, वहीं कांग्रेस के इस ‘जन आक्रोश’ को कवर करने पहुंचे मीडियाकर्मियों ने ऐसी जानकारी दी जिसे जान आप हैरान रह सकते हैं।

Source: Google

एक रिपोर्ट के अनुसार ‘जन आक्रोश रैली’ में राहुल गांधी के भाषण के दौरान कुर्सियां खाली पड़ी थी। रैली के दौरान राहुल गांधी मंच से बोल रहे थे मगर खाली कुर्सियां भी कुछ बोल रही थीं, क्या वाकई पार्टी के उम्मीद मुताबीक भीड़ आई?’ इस रैली के दौरान जुड़ी भीड़ को देख मीडिया ने इसे कांग्रेस का फ्लॉप शो करार दिया।

Source: Google

वहीं काग्रेस पार्टी के इस ‘जन आक्रोश रैली’ पर अपना आक्रोश निकालते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इसे परिवार आक्रोश रैली करार दिया है। कांग्रेस के इस फ्लॉप रैली पर हमला बोलते हुए शाह ने एक के बाद एक कई हमले करते हुए कई ट्वीट किए, जिसमे से एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि एक वंश और उनके दरबारी जनादेश के कारण एक के बाद एक कई राज्यों से बेदखल हो रहे हैं और वे जनाक्रोश व्यक्त कर रहे हैं।

Source: Google

शाह ने साफ शब्दों में कहा कि ‘आज की कांग्रेस रैली कुछ और नहीं, बल्कि परिवार आक्रोश रैली है, जो उनकी बढ़ती अलोकप्रियता को उजागर करती है’।