हनुमान चालीसा का पाठ करते वक्त न करें ये गलती, वरना भुगतने होंगे गंभीर परिणाम, नहीं मिलेगा लाभ

hanuman chalisa

इसे हनुमान की उपासना की सबसे आसान विधि कहा जाताहै। इसमें चालीस लाइनें होती हैं। इसका पाठ काफी प्रभावशाली होता है। मंगलवार को बजरंग बली को खुश करने के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। आइए जानते हैं हनुमान चालीसा पढ़ने की विधि:

hanuma2
SOURCE: google

हनुमान चालीसा का पाठ करने से पहले पूरी तरह से साफ यानि धूले हुए कपड़े पहने और स्नान कर लें।

जिस आसन पर बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करना है वह आसन लाल रंग का ही होना चाहिए। अगर यह आसन ऊनी हो तो ज्यादा बेहतर है।

हनुमान चालीसा में हनुमान जी को चढ़ाये जाने वाला प्रसाद गुड और चने हो या बुंदिया चूरमा का होना चाहिए और इसमें तुलसी के पत्ते जरूर होने चाहिए।

हनुमान चालीसा का पाठ करने से पहले नहा धोकर स्वच्छ कपड़े पहने और हनुमान जी को भी स्नान करा दीजिए।

hanuman2
SOURCE: google

पाठ शनिवार या मंगलवार को शुरु करें और लगातार 40 दिनों तक करते रहे। इसके अलावा, हर शनिवार और मंगलवार को अगले 11 शनिवार और अगले 11 मंगलवार तक एक दिन में 21 बार पाठ करें

पाठ करने से पहले हनुमान जी की प्रतिमा पर चमेली के तेल और सिंदूर से श्रृंगार करे और उन्हें जनेऊ पहनाएं।

सबसे पहले गणेश जी का स्मरण करें। इसके बाद अपने कुलदेवी और कुलदेवता को याद करते हुए पारिवारिक देवता यानी पितृ देवता का स्मरण करें।

hanuman3
SOURCE: google

कहा जाता है कि अगर हनुमान जी को प्रसन्न करना है तो सबसे पहले उनके प्रभु राम को प्रसन्न करना अच्छा रहता है। इसलिए सबसे पहले राम का नाम लें।

इसके बाद हनुमान जी का स्मरण करके हनुमान चालीसा का पाठ करना प्रारंभ करें।

अगर आप इन बातों का ध्यान रखते हैं तो आपको हनुमान चालीसा का मनोवांछित फल अवश्य मिलेगा